Omkareshwar | The Complete Guide

banner savan

Omkareshwar-Mamleshwar Jyotirlinga,Ma Narmada-Kaveri Sangam,
Omkar parvat (belief – 99Koti Devi Devtas live here),Origin of Hinduism,ancient temples ,
inexplicable beliefs and miracles and the beauty of Nature
make the Omkareshwar city as “must visit”.

How to reach – Lockdown update

Train & bus is not available due to lockdown . You can only reach hear by personal car or taxi.

Omkareshwar is inhabited by 12 kms from Indore-Khandwa Highaway.

From indore -Nearly 80 KMs.
From Khandwa -Nearly 70 KMs.
From Ujjain -Nearly 140 KMs.

Places to visit in Omkareshwar


Omkareshwar Jyotirlinga

Omkar is the creator, omkar is the performer, only Omkar is pre-eminent, all the greatest and most important things are form of Omkar. Vedas, Yajnas, Knowledge and penance all of this are originated from Omkar. Omkar is considered as the  Lord of whole world.

The importance of Omkareshwar Jyotirlinga can be conveyed by this as “Char dham and 12 Jyotirlinga” pilgrimage is not considered as fulfilled till one dedicate the water to Omkareshwar and Mamleshwar Jyotirlinga.

Read More→

omkareshwar-jyotirlinga/

Mamaleshwar Jyotirlinga

Omkareshwar and Mamleshwar are two different appearance of the same Jyotirlinga. Mamleshwar Jyotirlinga is at the South coast whereas Omkareshwar is at the North coast on the banks of holy river Narmada. It is said that, father and daughter share a special bond, it can be seen in Omkareshwar in form of Narmada and Omkar-Mamleshwar. If Omkareshwar is the soul of Lord Shiva then Mamleshwar is the body, when put together is considered as a single Jyotirlinga. Earlier Mamleshwar Jyotirlinga was known as “Amreshwar”. Mamleshwar Temple is five floored architecture and there is Pagoda on every floor. There are six more temples in the premises of the Mamleshwar, with beautiful stonework, different metals sculptures, many engraved Mantra on the walls of Temples, and many antique statues which are now maintained by the Archaeology department of India..

Read More→

Mamaleshwar jyotirlinga

Maa Narmada

Narmada is one of the seven major rivers of India. In importance placed second i.e. after Ganga, Narmada river is equally worshipped. In mythologies (Puranas) no other river is mentioned alike Narmada. “Revakhand” of Skandpuran is fully dedicated to Maa Narmada. It is written in Puranas – the amount of virtuous deeds fruit one gets by ablution in River Ganga can be taken simply by “Darshan” of Maa Narmada.Narmada is originated from Amarkantak. It flows towards West and rocks are the base of its flow.Maa Narmada is the daughter of Lord Shiva and in Omkareshwar Maa Narmada along with Ma Kaveri cuts the Vindhya Parvat in the shape of “OM” where 33 koti God-goddess and Lord shiva with Maa parvati leaves.

Read More→

Maa narmada

Narmada Kaveri Sangam

यूं तो ओंकार की गूंज भारत के कण – कण मे सुनाई देती है लेकिन इसी भारत भूमि पर एक स्थान ऐसा भी है जहां साक्षात भारत की पवित्र नदियां नर्मदा और कावेरी मिलकर ॐ आकार के टापू की रचना करती है।इसी टापू (ओंकार पर्वत) पर ओंकारेश्वर के रूप मे नीलकंठ भगवान शंकर का वास है। नर्मदा और कवीरी की पवित्र धाराओ के साथ इन मंदिरो की परिक्रमा करना मतलब ॐ की परिक्रमा करने के समान है।  एसा माना  जाता है संगम से बहते बहते इन दोनों बहनों मे कुछ अनबन हो जाती है और ओंकार पर्वत से दोनों अलग अलग हो जाती है। और नर्मदा कावेरी संगम तक दोनों बहने एक दूसरे को मना फिर से साथ हो जाती है। जिसके कारण यह  पर्वत ॐ आकार का द्वीप बनकर ॐ कार का रूप धारण कर लेता है ।

Read More→

Narmada kaveri sanagam -JagGhoomiya

Omkar Parvat

यहां भगवान ओमकारेश्वर मां पार्वती व पूरे परिवार के साथ तथा 33 कोटि देवी देवता अपने परिवार के साथ निवास करते हैं| यहां कई पौराणिक मंदिर है पांडवों ने अपने वनवास का समय यहीं पर काटा था| शंकराचार्य जी ने यहीं पर शिक्षा ली थी व हिंदुत्व की स्थापना की थी|नर्मदा और कवीरी की पवित्र धाराओ के साथ इन मंदिरो की परिक्रमा करना मतलब ॐ की परिक्रमा करने के समान है। देव  भूमि  की परिक्रमा करना मतलब ईश्वर के और करीब जाने का राश्ता है।परिक्रमा मार्ग लगभग 7 किलोमीटर लंबा है रास्ते भर प्राचीन मंदिर, आश्रम, हरियाली, लाल मुंह के बंदर और गीता श्लोक लिखे हुए मिलेंगे

Read More→

omkar-parvat

ऋणमुक्तेश्वर मंदिर ओंकारेश्वर

ओंकारपर्वत क्षेत्र पांडवों के अज्ञातवास का स्थल रहा है भगवान कृष्ण से जब उन्होने अपने कष्ट का कारण पूछा तो भगवान ने उन्हे पितृऋण के कारण इस अज्ञातवास को बताया साथ ही उन्होने ओंकार पर्वत परिक्रमा क्षेत्र में नर्मदा कावेरी संगम के पास स्थित एक प्राचीन मंदिर ऋण मुक्तेश्वर पर शिव कि पूजा का विधान बताया।पाण्डवो ने अज्ञातवास के दौरान कर्जमुक्ती के लिये भगवान शिव की तपस्या कर शिवलिंग की स्थापना की, पोराणिक काल में शिवलिंग पर सोने की दाल चढती थी बाद में चने की दाल चढाने का महत्व हो गया।  जो व्यक्ति मम्लेश्वर लिंग के दर्शन कर ओंकार पर्वत कि परिक्रमा करते हुए संगम मॆ स्नान कर इस पवित्र लिंग का शुद्ध पवित्र भाव से विश्वास पूर्ण ढ़ंग से पूजन करता है। भगवान ऋण मुक्तेश्वर उसे सभी प्रकार के ॠणों से मुक्त करते है।
rin-mukteshwar

केदारेश्वर मंदिर ओंकारेश्वर

यह मंदिर ओंकार पर्वत पर स्थित है | प्रचिन काल में बहुत भक्तों की आकुल प्रार्थना से भगवान केदारनाथ जी ओंकार पर्वत के इस स्थान पर पधारें थे । यहाँ पर केदारनाथ जी सदैव निवास करते है। यह सिद्ध स्थान है। केदारनाथ दर्शन पूजन व केदार गंगा स्नान कर मनुष्यों का पुनः जन्म नहीं होता, मुक्त हो जाता है। ठीक उसी तरह इस स्थान की महात्व भी वैसे ही है। अतः इस पवित्र केदारेशर शिवजी का दर्शन पूजन कर आत्मज्ञान प्राप्त करने के लिए अपना मूल स्वरूप ओंकार लाभ करने के लिए प्रार्थना करना चाहिए।मंदिर के चारो और पत्थरो से निर्मित एक दीवार है जिसे प्राचीन काल मे परकोटा भी कहा जाता है।
मंदिर के सामने ही नंदी की प्रतिमा विराजमान है
kedareshwar Omkareshwar

Lockdown instructions Omkareshwar

Corona positive in omkareshwar : 0 ♥

  1. Lockdown on sunday.
  2. Daily lockdown -8P.M. to 8A.M.
  3. Narmada Snan (Narmada Bath) is restricted.
  4. City taxi and auto is temporarily closed.
  5. For Omkareshwar jyotirlinga darshan, it is mandatory to book online token from official site.(As due to covid19 only limited number of devotees are allowed per day)
  6. Face mask is mandatory.
  7. Children under 10 years,elderly above 65 years and pregnant women are suggested not to visit Temple or any crowd place.

JagGhoomiya.com support policy in Lockdown

Helpline

24/7 Available

1800-8896-150

support@jagghoomiya.com

Office

Available : 10 AM to 8 PM

Get full guideline for your visit.

Fill the details and stay up to date.



Main Menu